मकान मालकिन और उसके बेटे की चुदास -2- Maa-Beta Ke Beech Chudai Ki Kahaniyan

अब तक आपने पढ़ा..

‘रवि.. मैं कहती हूँ.. तुम इसी पल रुक जाओ..’
रवि सर उठाता है.. और ऐसे दिखावा करता है.. जैसे उसे अपनी मम्मी के अन्दर आने का अभी पता चला हो। वो एक गहरी सांस लेता है और अपने लण्ड से हाथ हटाकर अपने सर के पीछे बाँध लेता है। वो अपने लण्ड को छुपाने की कोई कोशिश नहीं करता है। उसका विकराल लण्ड भयंकर तरीके से झटके मार रहा होता है।
अब आगे..

दिव्या अपने बेटे के पास बिस्तर के किनारे बैठ जाती है और प्रयत्न करती है कि वो उसके लण्ड की ओर ना देखे। वो महसूस करती है कि उसके निप्पल खड़े हो रहे हैं और शर्ट के ऊपर से नज़र आ रहे हैं। वो मन ही मन सोचती है कि काश उसने ब्रा पहनी होती.. तो उसके चूचे उसके बेटे के सामने इस तरह झूला नहीं झूलते।

‘मॉम मुझे आपसे इस तरह की उम्मीद नहीं थी..’ रवि भुनभुनाते हुए बोलता है.. ‘क्या मुझे थोड़ी सी भी प्राइवेसी नहीं मिल सकती?’

‘तुम अच्छी तरह जानते हो.. मैंने कुछ समय पहले तुम्हारे दरवाजे पर दस्तक दी थी.. मेरे ख्याल से मेरे द्वारा चाभी इस्तेमाल करने के लिए इतना प्रमाण काफ़ी है.. तुम जानते हो यह ऐसा गंभीर मुद्दा है.. जिस पर हमें बात करने की सख्त ज़रूरत है। इन दिनों तुम सिर्फ़ हस्तमैथुन में ही व्यस्त रहते हो। यह सही नहीं है.. तुम कभी भी पढ़ाई नहीं कर सकोगे.. अगर तुम अपना सारा समय इस तरह हस्तमैथुन करते हुए बर्बाद करोगे..’

‘मैं खुद को विवश महसूस करता हूँ मॉम.. जैसे ही मेरा लण्ड खड़ा हो जाता है.. मेरे हाथ खुद भी खुद उसे रगड़ने के लिए उठ जाते हैं। आख़िर इसमें ग़लत क्या है?’ उसने बिना किसी शरम के ‘लण्ड’ शब्द का इस्तेमाल किया था। दिव्या उसकी बेशर्मी पर हैरान हो जाती है.. मगर अपने अन्दर एक अजीब सी सिहरन महसूस करती है।

‘क्या तुम अपने स्कूल में किसी हम उम्र लड़की को नहीं जानते.. जो तुम्हारे साथ..’
दिव्या यह कहते हुए खुद ही शरम से लाल हो गई.. यह सोचते हुए कि वो उसे किसी जवान लड़की को चोदने के लिए बोल रही है।
‘..ज..जो तुम्हें सामान्य ‘तरीके’ को समझाने में मदद कर सके..’

‘मम्मी तुम्हारा मतलब अगर किसी लड़की की चुदाई करने से है.. तो मॉम मैं ना जाने कितनी लड़कियों को चोद चुका हूँ.. लड़कियाँ मेरे इस मोटे लण्ड पर मरती हैं.. अगर तुम आज्ञा दो.. तो मैं कल एक लड़की लाकर यहीं पर चोद सकता हूँ। मुझे बस हस्तमैथुन करने में हद से ज्यादा मज़ा आता है.. इसलिए मैं खुद को रोक नहीं पाता हूँ।’

दिव्या ने महसूस कर लिया था कि उसका बेटा उसके सामने शरम नहीं करेगा, उसे खुद की स्थिति बहुत दयनीय लगी, एक तरफ़ तो उसे अपने बेटे से ऐसी खुली बातें करते हुए अत्यंत शर्म महसूस हो रही थी.. मगर उसका मातृधर्म उसे मजबूर कर रहा था कि उससे बातचीत करके कोई हल निकाले और दूसरी ओर उसे अपनी चूत में सुरसुराहट बढ़ती हुई महसूस हो रही थी।

‘तुम कम से कम अपनी पैन्ट तो वापिस पहन सकते हो.. जब तुम्हारी माँ तुमसे बात कर रही है.. तुम कितने बेशर्म हो गए हो..?’

‘मॉम, आप मुझसे बात करना चाहती थीं.. मैं अब और नहीं रुक सकता.. मेरे टट्टे वीर्य से भरे हुए हैं। मुझे अपना रस बाहर निकालना है।’

उसके बाद उस भारी भरकम लण्ड के मालिक उसके बेटे ने अपनी मम्मी को फिर से चौंका दिया.. जब उसने अपना हाथ लण्ड पर फेरते हुए उसे मजबूती से थाम लिया। आश्चर्य चकित दिव्या चाह कर भी खुद को अपने बेटे के विशाल लण्ड को घूरने से रोक ना सकी। जब रवि फिर से अपने लण्ड को धीमे मगर कठोरता से पीटने लग जाता है। रवि के मुँह से कराहने की आवाज़ें निकलने लगती हैं। जब उसकी कलाई उसके कुदरती तौर पर बड़े लण्ड पर ऊपर-नीचे होने लगती हैं।

‘रवि.. रवि.. भगवान के लिए..!’ तेज गुस्से और प्रबल कामुकता से अविभूत दिव्या अपने बेटे पर चकित रह जाती है।
‘तुम्हारी… तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई अपनी माँ के सामने ऐसा नीच कार्य करने की.. तुम अपने लण्ड से अपना हाथ इसी पल हटाओ वरना.. दिव्या गुस्से में सीधे ‘लण्ड’ शब्द का इस्तेमाल कर गई.. लेकिन उसकी हालत ऐसी थी कि उसे इसकी कोई परवाह नहीं थी।

‘मुझे इतना मज़ा आ रहा है मम्मी.. कि अब मुझसे अब रुका नहीं जाएगा..’
फिर रवि ने पूरी बेशर्मी से अपनी नज़रें अपनी मम्मी के मम्मों पर गड़ा दीं। उसके मुँह से ‘आह..’ निकलती है.. जब वो अपनी मम्मी के मोटे गुन्दाज मम्मों को उसकी शर्ट के नीचे हिलाते हुए देखता है।
‘माँ.. वाकयी में तुम्हारे तो बहुत ‘बड़े’ हैं मम्मी.. कभी-कभी मैं मुट्ठ मारते हुए उन्हें चूसने के बारे में सोचता हूँ.. मगर मुट्ठ मारते हुए उन्हें अपनी आँखों के सामने देखना कहीं ज्यादा बेहतर है..’

‘रवि..!’ दिव्या अपने बेटे की बातों से इतना स्तब्ध रह जाती है कि मुँह नीचे कर लेती है कि उसे अपने बेटे को इसी पल उसका लण्ड रगड़ने से रोकना है। वो अपना हाथ नीचे उसके लण्ड की ओर बढ़ाती है.. इस इरादे के साथ.. कि वो उसकी उंगलियों को खींच कर उसके लण्ड से अलग कर देगी।

मगर उसी समय रवि.. जिसने देख लिया था कि उसकी मम्मी का इरादा क्या है.. वो चालाकी से अपने हाथ को एकदम से हटा देता है और अगले ही पल दिव्या को महसूस होता है कि उसके हाथ में उसके बेटे का विकराल लण्ड समा चुका है।

‘ओह मम्मी.. तुम्हारे हाथ का स्पर्श कितना मजेदार है.. तुम अपने हाथ से इसे क्यों नहीं रगड़तीं..!’
यह कहानी आप अन्तर्वासना डॉट कॉम पर पढ़ रहे हैं !

‘बदतमीज़.. बेशरम..!’

फिर दिव्या वाकयी में अपने बेटे की इच्छा अनुसार उसके लण्ड को सहलाने लग जाती है। उसे समझ में ही नहीं आ रहा था कि उसे क्या हो गया है.. क्यों वो अपने बेटे के साथ दुनिया का शायद सबसे बड़ा गुनाह करने को इतना उत्सुक थी.. अत्यधिक कामोत्तेजना में उसकी फुद्दी कामरस से भीग कर उसकी पैन्टी में कांप रही थी। वो खुद को गुस्से, निराशा और एक अनियंत्रित कामुकता से अविभूत महसूस कर रही थी।

अपनी काम-लोलुप मम्मी के हैण्ड-जॉब के आगे पूरी तरह समर्पण कर.. रवि वहाँ पर लेटे हुए मुस्करा रहा था। दिव्या अब अपने बेटे के विशाल लण्ड को खुल्लमखुल्ला निहार रही थी और मुँह बनाकर अपना हाथ उसके विकराल लण्ड पर जितनी तेज़ी से कर सकती थी.. ऊपर-नीचे कर रही थी।

‘क्या तुम्हें ये अच्छा लग रहा है.. रवि.. क्या तुम यही चाहते थे कि मैं तुम्हारे साथ ऐसा करूँ? तुम्हारी अपनी माँ? क्या तुम सचमुच में इतने नीचे गिर चुके हो.. इतने बेशरम हो गए हो? तुम यही चाहते हो कि में. तुम्हारी मम्मी तुम्हारे इस मोटे लंबे लण्ड को अपने हाथों में लेकर मुट्ठ मारे?’

रवि बस ‘आह्ह..’ भर कर रह गया।

‘क्या तुम मम्मी को अपना लण्ड भी चुसवाना चाहते हो? तुम्हें बहुत अच्छा लगेगा.. है ना? तुम्हें कितना मज़ा आएगा.. अगर तुम्हारी अपनी मम्मी तुम्हारे लण्ड को मुँह में लेकर चूसे और तुम्हारा सारा रस पी जाए..’

रवि जवाब में उसका हाथ अपने लण्ड से हटा देता है.. झूलते हुए उठता है और बिस्तर के किनारे पर बैठ जाता है। वो अपनी मम्मी की ओर देखते हुए दाँत निकालता है और फिर घमंड से अपने तगड़े लण्ड की ओर इशारा करता है।

‘हाँ.. यही तो मैं चाहता था.. हमेशा से.. मम्मी तुम घुटनों के बल बैठ जाओ.. मेरे लण्ड को इस समय एक जोरदार चुसाई की ज़रूरत है..’
‘रवि तुम एक बहुत ही गंदे बेशरम लड़के हो..’

और फिर दिव्या के मुँह से अल्फ़ाज़ निकलने बंद हो गए.. वो वही करने जा रही थी.. जैसा उसके बेटे ने अनुरोध किया था।
रवि के सामने घुटनों पर होते हुए उसने उस विशाल और खड़े लण्ड को अपनी आँखों के सामने पाया।

दिव्या ने महसूस किया कि वो बहुत गहरी साँसें ले रही है.. वो अपनी दिल की धड़कनों को अपनी छाती से कहीं ज्यादा अपनी चूत में महसूस कर रही थी। उसे ऐसा लग रहा था जैसे वो सारा नियन्त्रण खो बैठी हो.. जिससे अब उसके लिए इस बात में अंतर करना नामुमकिन था कि वो क्या कर रही थी और क्या करने का सोच कर वहाँ आई थी।

उसे खुद पर विश्वास नहीं हो रहा था कि वो अपने बेटे के लण्ड को अपने मुँह में डाल कर उसका उगलने वाले रस को पीने जा रही है। दिव्या अपनी उंगलियाँ उस फड़फड़ा रहे लण्ड के गिर्द कठोरता से कसते हुए अपनी कलाई उसकी जड़ तक ले गई। वो कुछ पलों के लिए गुलाबी रंगत लिए उस फूले हुए सुपारे की ओर देखती है कि कैसे वो मोटा मुकुट.. चिपचिपे रस से चमक रहा है।
उसकी आँखों में एक इरादे की झलक थी।
फिर वो चंचल और अनियंत्रित माँ अपना सिर को नीचे की ओर लाती है और अपने होंठ उसके सुपारे से सटा देती है। बेशरमी से वो अपनी जिव्हा बाहर निकालते हुए सिहरन से कांप रहे लण्ड के सुपारे से टपकते हुए गाढ़े रस को चाट लेती है।

‘आहह.. मम्मी मैं तुम्हें बता नहीं सकता मुझे कैसा महसूस हो रहा है.. मैंने सोचा भी नहीं था कि इसमें इतना मज़ा आएगा..’ रवि अपनी मम्मी के सिर को दोनों हाथों से थामे हुए कांप सा रहा था।

‘इसे अपने मुँह में अन्दर तक डालो मम्मी.. चूसो इसे.. हाय मम्मी.. अच्छे से और ज़ोर से चूसो..’

दिव्या ने अपनी आँखें बंद कर लीं.. वो अपने दिमाग़ में गूँज रही उस आवाज़ को बंद कर देना चाहती थी.. जो उसे बता रही थी कि वो अब ऐसी माँ बन गई है.. जो अपने ही बेटे का लण्ड मुँह में लेकर चूसती है।

दोस्तो, यह कहानी सिर्फ और सिर्फ काम वासना से भरी हुई.. जो भी मैं इसमें लिख रहा हूँ.. अक्षरश: सत्य है.. आप इसकी कामुकता को सिर्फ कामक्रीड़ा के नजरिए से पढ़िए.. और आनन्द लीजिए।
मुझे अपने विचारों से अवगत कराने के लिए मुझे ईमेल अवश्य कीजिएगा।

कहानी जारी है।

(Visited 121 times, 48 visits today)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *